Monday, May 20, 2024
Homeराज्यदिल्लीहनुमान जयंती पर दिल्ली में चालीसा का हुआ ऐतिहासिक आयोजन: सुनील यादव

हनुमान जयंती पर दिल्ली में चालीसा का हुआ ऐतिहासिक आयोजन: सुनील यादव

दिल्ली के अनेको स्थानों में भगवान बजरंगबली का प्रकटोत्सव बड़ी धूमधाम से मनाया गया। हनुमान मंदिरों में भक्तों की भारी भीड़ लगी रही। इस दौरान बीजेपी ओबीसी मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष सुनील यादव भी भक्तिमय माहौल में डूबे दिखाई दिए। दिल्ली में विभिन्न मंदिरों के कार्यक्रम में भाग लिया। दिल्ली भाजपा ने हनुमान जन्मोत्सव के अवसर पर राष्ट्रीय राजधानी के 13,000 बूथों पर सामूहिक हनुमान चालीसा का पाठ किया। शाम छह बजे बूथों पर हनुमान चालीसा का पाठ शुरू हुआ।

बीजेपी नेता सुनील यादव ने अलीगंज हनुमान मंदिर, बी.के दत्त कॉलोनी स्तिथ सनातन धर्म मंदिर, कनॉट प्लेस हनुमान मंदिर में आयोजित विशाल सामूहिक हनुमान चालीसा में शिरकत की। यहां उन्होंने पूजा अर्चना की और भगवान का आशीर्वाद लिया। उन्होंने सभी लोगों को हनुमान जयंती की शुभकामनाएं देते हुए सबसे कल्याण की कामना की। इस अवसर पर नई दिल्ली लोकसभा की प्रत्याशी बाँसुरी स्वराज भी उपस्तिथ रही।

सुनील यादव ने कहा हिंदू नववर्ष के बाद अब हनुमान जन्मोत्सव के उपलक्ष्य में भाजपा जगह-जगह कार्यक्रम का आयोजन कर रही है। मंगलवार को एक साथ ढाई सौ से अधिक मंडलों व 13000 बूथ पर हनुमान चालीसा का पाठ आयोजन ऐतिहासिक रहा। हनुमान जन्मोत्सव के अवसर पर राजधानी में हनुमान चालीसा, सुंदरकांड, प्रभात फेरियां, शोभायात्राएं और इसी प्रकार के अनेक कार्यक्रमों आयोजित किए गए।

सुनील यादव ने बताया कि हनुमान प्रकट उत्सव की धूम मंदिरों में देखी गई। हनुमान मंदिरों में श्रद्धालुओं के उमड़ने का सिलसिला शुरू हो गया था। विशेष पूजा-अर्चना के साथ हनुमान का जन्म दिवस मनाया गया। अलीगंज में हनुमान जयंती के कार्यक्रम में हनुमान मंदिर में फूलों के श्रृंगार के साथ लड्डुओं के भोग के बीच हनुमान लला का जन्म दिवस मनाया गया। सनातन धर्म मंदिर में बाल हनुमान की विशेष पूजा अर्चना की गई। कनॉट प्लेस में भी सुबह से भक्तों का सैलाब उमड़ा शहर भर में सुंदरकांड की गूंज रही। ब्रह्म मुहूर्त में शहर के हनुमान मंदिरों में पवन पुत्र का सिंदूर से अभिषेक हुआ। मंदिरों में रामचरितमानस सुंदरकांड हनुमान चालीसा का पाठ किया गया।

सुनील यादव ने कहा भगवान हनुमान अपने कौशल और बुद्धि के लिए जाने जाते हैं। उन्होंने अकेले ही पूरे लंका को जला दिया और यहां तक कि महाशक्तिशाली रावण भी उन्हें नहीं रोक पाया। वह शक्तिशाली होने के साथ ही शांत और सौम्य भी है। यह त्योहार हमें स्वयं को भगवान हनुमान के रूप में आध्यात्मिक और मानसिक रूप से विकसित होना सिखाता है। हिंदू धार्मिक ग्रंथों और हनुमान चालीसा में, यह विशेष रूप से उल्लेख किया गया है कि हनुमान अपने पूजक को शौर्य, साहस और जीवन शक्ति प्रदान करते है। वह अपने भक्तों के जीवन में आने वाली बाधाओं को दूर करते है और खुशी तथा संतोष लाते है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments